प्राइवेट स्क्रीनिंग पर भड़का सेंसर बोर्ड ,बोले पद्मावती पर विरोध जैसा कुछ भी नहीं ,

Padmavati movie

पद्मावती का विरोध दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है ऐसे में संजय लीला भंसाली‍ की फिल्म ‘पद्मावती’ संकट में आ गयी है ,लेकिन शायद अब इस फिल्म
को मंजूरी मिल सकती है ,संजय लीला भंसाली इस फिल्म को रिलीज़ करवाने के लिए भरपूर कोसिस कर रहे है ,संजय लीला की कोशिश यही है की फिल्म
बिना किसी विरोध के रिलीज़ हो जाये ,भंसाली लगातार यही कहते नज़र आ रहे है की इस फिल्म में विरोध जैसा कुछ भी नहीं है ,

हाल ही में इस फिल्म की प्राइवेट स्क्रीनिंग की गयी जिसमे कुछ पत्रकार में शामिल थे ,इन सभी पत्रकारों ने अपनी वेबसाइट पर आलेख लिखकर बताया की इस फिल्म में विरोध जैसा कुछ नहीं है ,

इन लोगों का कहना है कि पद्मावती में कुछ भी ऐसा नहीं दिखाया गया है जिसका विरोध किया जाए। रानी की गरिमा को कायम रखा है। राजपूतों की शान कायम रखी है। ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ नहीं की गई है। खिलजी को महामंडित नहीं किया गया है। खिलजी और पद्मावती के बीच कोई दृश्य नहीं है, इसलिए फिल्म का विरोध करना गलत है।

भंसाली ने यह प्राइवेट स्क्रीनिंग इसीलिए की ताकि लोगों तक वे अपनी बात को पहुंचाने में सफल रहें। जब पत्रकार फिल्म के बारे में ऐसा बोलेंगे तो उसका सही असर होगा।
पद्मावती को अभी तक सेंसर सर्टिफिकेट नहीं मिला है। इस बारे में प्रसून का कहना है कि पेपर वर्क कम्प्लीट नहीं था। फिल्म की कैटेगरी को खाली छोड़ दिया गया है। यह बात साफ नहीं की गई कि फिल्म फिक्शन है या हिस्टोरिकल। सेंसर को सारे दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए गए और अब हम पर ही देरी का आरोप लगाया जा रहा है।

फिल्म के प्रति विरोध बढ़ता जा रहा है। राजस्थान के बाद उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक से भी फिल्म के विरोध की खबरें आ रही हैं। संजय लीला भंसाली के सिर काटने वाले को इनाम देने की घोषणा की गई है। फिल्म की हीरोइन दीपिका पादुकोण की भी नाक काटने की धमकी दी गई है।
लगातार चर्चा में रह रही इस फिल्म में अब देखना यह की क्या इस फिल्म को मंजूरी मिल जाएगी या नहीं ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

My title page contents