अंबानी आखिर जेब में कितने पैसे लेकर चलते हैं ,जानकार चौक जाएंगे आप

दिल्ली -हमारे देश के ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे अमीर परिवार में से एक है अम्बानी परिवार ,इनकी लाइफ स्टाइल जो जानने के लिए हर व्यक्ति उत्सुक रहता है ,हर किसी के जहन में यह सवाल होता है की ये अपनी जिंदगी किस तरह से जीते हैं ,लगातार सोशल मीडिया में भी अंबानी परिवार को लेकर नित नए खुलासे होते ही रहते हैं ,भारत के सबसे अमीर लोगो की जब बात होती है तो ये एक सबसे बड़ा नाम है ,ऐसे यह जानना बेहद ही दिलचस्प होगा की ये जब घर से निकलते हैं तो इनकी जेब में कितने पैसे होते हैं ,या यु कहे की ये कितने पैसे लेकर घर से निकलते हैं ,और इसका जवाब जानकर शायद आप दंग रह जाएंगे क्योंकि इस बात का खुलासा खुद इन्होने ही किया है,

जानिए क्या कहते हैं मुकेश अंबानी इस बारे में –

मुकेश अंबानी ने बड़े ही रोचक तरीके से बताया की वे जब भी घर से निकलते हैं तो उनके पास एक भी पैसा नहीं होता है और ज्यादा दिलचस्प बात तो यह है की वे अपने साथ क्रेडिट कार्ड तक नहीं रखते हैं ,उन्होंने बताया की उनके सारे बिल साथ रहने वाले ही भरते हैं ,मुकेश अंबानी की माने तो वो पैसो को केवल एक ससंसाधन मात्र मानते हैं उनका कहना है की ,’पैसा मेरे लिए मायने नहीं रखता. पैसा महज एक संसाधन है. जो कंपनी के लिए जोखिम लेने का काम करता है. इससे फ्लेग्जिबिलिटी भी मिलती है. मैं अपनी जेब में न पैसा रखता हूं और न क्रेडिट कार्ड. बहुत कम लोग इस बात को जानते हैं,सबसे ज्यादा तो हैरानी तब हुई जब उन्होंने बताया की वो बचपन से ही जेब में पैसा नहीं रखते हैं और न ही उन्हें कभी इसका शौक था ,

मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में बच्चो को लेकर खुलासा किया की ‘जब मेरे बच्चे स्कूल जाते थे तो मैं उनको हर शुक्रवार 5 रुपये देती थी. जिससे वो स्कूल कैंटीन में खाना खाते थे. एक वक्त की बात है जब मेरा बेटा अनंत दौड़ कर मेरे पास आया और बोला कि 10 रुपये चाहिए. जब मैंने सवाल पूछा क्यों तो वो बोला- स्कूल के दोस्त मेरा मजाक उड़ाते हैं. कहते है सिर्फ 5 रुपये लाता है. तू अंबानी है या भिखारी,जानकारी के मुताबिक अगर इनकी लाइफ स्टाइल की बात की जाये तो ये दुनिया के सबसे महंगे घर में रहते हैं ,साथ ही इनके पास दुनिया की महंगी से महंगी कारो का भी शानदार कलेक्शन है ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

My title page contents