फेफड़े ख़राब होने से पहले मिलते हैं ये 5 लक्षण

 symptoms of  bed  lungs

हमारे शरीर की दैनिक कार्यप्रणाली में अगर थोड़ा सा भी फर्क आ जाये तो हम समझ जाते हैं की हमारे शरीर के कोण से अंग में समस्या है,
जैसे की मूत्र का रंग पीला हो जाने पर हम समझ जाते हैं की हमरी किडनी में कोई समस्या है ,ऐसे ही हमारे फेफड़े भी हमें ख़राब होने से पहले देते हैं ये संकेत

वैसे तो ज्यादातर लोग अपनी सेहत के प्रति उदासीन हैं,लेकिन ऐसा होना नहीं चाहिए शरीर के किसी भी अंग में समस्या हो तो तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए
जिन लोगो के फेफड़े ख़राब हो जाते हैं उन्हें साँस या फिर टीबी की शिकायत हो सकती है , ऐसे में अपने फेफड़े की सुधि लेते रहना बहुत जरूरी है। आज हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताने वाले हैं जिनकी मदद से आप यह जान सकेंगे कि आपका फेफड़ा सही नहीं है और फिर आप उसका उचित इलाज करवा सकते हैं।

कई दिनों तक लगातार खासी आना -अगर आपको लम्बे समय से खासी की समस्या है जो की कई बार इलाज करने पर भी ठीक नहीं हो रहे तो आपको
सचेत हो जाना चाहिए 8 हफ़्तों से अधिक समय की खांसी होने पर फेफड़े की जाँच अवश्य कराये ,

छाती में दर्द होना -अगर आप खासते समय छाती में दर्द महसूस करते हैं तो आपको ये शिकायत हो सकती है ,हालांकि छाती का दर्द दिल से सम्बंधित होता है,

बहुत ज्यादा बलगम बनना – अगर खांसते वक्त बहुत ज्यादा कफ निकलता है तो यह भी फेफड़े की गंभीर बीमारी का सूचक है। इसके अलावा अगर आपको तीन महीने से ज्यादा समय से खांसी आ रही है तो यह ब्रोंकाइटिस के लक्षण हो सकते हैं।

सांस फूलना – अगर आप टहलते हुए, सीढ़ियां चढ़ते हुए या फिर कोई छोटा-मोटा श्रम करते हुएं हांफने लगते हैं तो इसका मतलब है कि आपके फेफड़ों में सब कुछ सही नहीं है। कई बार तो ऐसा होता है कि बिस्तर पर लेटे-लेटे भी सांस फूलने लगती है। यह फेफड़े की किसी गंभीर समस्या के लक्षण हैं। अगर ठीक समय पर इलाज न कराया जाए तो इससे सांस संबंधी गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

सांस लेने में तकलीफ – अगर आप अपने फेफड़ों से किसी तरह की घरघराहट महसूस कर रहे हैं तो यह लंग डिसफंक्शन का संकेत हो सकता है। लंग्स में ऑक्सीजन की ठीक तरह से आपूर्ति न हो पाने की वजह से या फिर गंदगी या बैक्टीरिया के कारण धमनियों के ब्लॉक हो जाने की वजह से इस तरह की समस्या सामने आती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

My title page contents