64 जनसभाओं के बावजूद भी शिवराज को मिली हार

सिवनी सुप्रभात

मध्य प्रदेश में सतना ज़िले के चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी को 14133 मतों से मात दिया है. कांग्रेस के प्रत्याशी नीलांशु चतुर्वेदी ने बीजेपी के शंकरलाल त्रिपाठी को शिकस्त दी है.
वैसे अगर बात की जाये तो मध्यप्रदेश में बीजेपी को शिकस्त देना कोई छोटी बात नहीं है ,

इससे पूर्व भी चित्रकूट विधानसभा सीट कांग्रेस के ही पास थी. कांग्रेस विधायक प्रेम सिंह की मौत के बाद यहां पर उपचुनाव कराया गया.
चित्रकूट कांग्रेस की परांपरागत सीट है, लेकिन इसे सत्तारूढ़ दल की बड़ी हार के तौर पर देखा जा रहा है. कांग्रेस पहले राउंड में बीजेपी से पिछड़ गई थी, लेकिन बाद में वो आख़िर तक आगे रही.

इस उपचुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस के गढ़ में शिकस्त देने के लिए एड़ी-चोटी का दम लगा दिया था. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यहां एक रात एक आदिवासी के घर पर भी गुज़ारी थी.
उस रात के लिए प्रशासन ने घर पर हर तरह के इंतज़ाम किए थे और दूसरे दिन सारे सामान वापस भी ले लिए थे.
उत्तर प्रदेश से लगे चित्रकूट में हुई जीत बीजेपी के लिए झटका है. पार्टी ने उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को भी प्रचार के लिए लाया था.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान ने कहा, “प्रदेश में कांग्रेस की कुछ परंपरागत सीटें है, जहां से वह जीतती है और आगे भी जीतेगी. चित्रकूट के नतीजों का 2018 के चुनाव में कोई असर नही पड़ेगा.”

वही नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने पार्टी की जीत के बाद कहा कि कांग्रेस की जीत कार्यकर्ताओं की जीत है.
उन्होंने कहा, “चित्रकूट की जनता ने कांग्रेस पर जो भरोसा व्यक्त किया है उसे इस क्षेत्र का सर्वांगीण विकास करके पूरा किया जाएगा.”कांग्रेस प्रत्याशी की जीत से पार्टी में जश्न का माहौल है.

हलाकि देखना ये है की आखिर इसके बाद आने वाले चुनावो में बीजेपी की क्या तैयारी रहती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

My title page contents